Menu
A+ A A-

गेहूं के पहले बुनाई से भारत में पैदावार बढ़ाने में मदद मिल सकती है

english

गेहूं के खेत। (स्टॉक छवि)

एन आर्बर — मिशिगन विश्वविद्यालय के शोधकर्ता का कहना है कि भारत में गेहूं उत्पादन में यील्ड के कमी को पहले बुनाई करके रोका जा सकता है।

यू-एम स्कूल ऑफ एनवायरनमेंट एंड सस्टेनेबिलिटी में सहायक प्रोफेसर मेहा जैन ने गेहूं की पैदावार को मापने के लिए एक नए तरीके का प्रयोग करते हुए पाया कि भारत के मुख्य गेहूं उपजने वाले पूर्वी क्षेत्र में गेहूं की उपज 110 फीसदी बढ़ सकती है अगर वे बेहतर प्रबंधन प्रथाअों को लागू करे।

"अंतराल के कारणों की पहचान करने से खाद्य सुरक्षा को बढ़ाने के लिए योग्य जानकारी मिलेगी।" जैन ने कहा कि आने वाले दशकों में खाद्य सुरक्षा को जलवायु परिवर्तन, प्राकृतिक संसाधनों में गिरावट और जनसंख्या वृद्धि से चुनौती मिलेगी।

चीन के बाद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा गेहूं उत्पादक है। पिछले अध्ययनों के अनुसार गेहूं की पैदावार बढ़ते तापमानो से मध्य सदी में 30 प्रतिशत तक घ़ट सकती हैं।

"गेहूं एक फसल है जो अनाज भरने वाले चरण के दौरान गर्मी से अत्यधिक प्रभावित होता है", जैन ने कहा। "पहले बोने से, यहां तक कि कुछ हफ़्ते पहले, उपज में काफी अंतर हो सकता है।"

उनका शोध 2001 से 2015 तक कुछ प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्यों को- हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश और बिहार- देखाता हैँ। अनुसंधान यथार्थवादी अधिकतम संभावित पैदावार अौर वास्तविक पैदावार के अंतर को यील्ड के कमी में वर्णन करता है।

अध्ययन के अनुसार, हरियाणा और पंजाब में — जो भारत के गेहूं बेल्ट हैं — उपज अंतर कम था- लेकिन पहले बोने से यह 10 प्रतिशत तक बढ़ सकता है।

उत्तर प्रदेश और बिहार में यह यील्ड के कमी अधिक हैं, लेकिन पहले बोने से इसमें 32 प्रतिशत वृद्धि हो सकती है। प्रबंधन प्रथाओं में सर्वोच्च उपज देने वाले खेतों जैसे सुधार करके उपज दोगुना हो सकता है।

"उपज अंतराल को बदलने के लिये सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक पहले बुनाई था, "जैन ने कहा।

अपने अध्ययन में, जैन और सहकर्मियों ने स्केलेबल क्राप यील्ड मैपर का इस्तेमाल किया जो उपग्रह डेटा का उपयोग करके गेहूं की पैदावार को बेहतर तरीके से मापा। फिर उन्होंने प्रत्येक जिले में मौजूदा उपज से अंतर को मापा।

"यह नई पद्धति हमें अधिक ग्रैन्युलैरिटी मिली, जैन ने कहा।" "हम मोटे पैमाने, जिला स्तर के आंकड़ों के बजाय 30-मीटर के प्रस्तावों पर पैदावार का अनुमान लगा सकते हैं।"

शोधकर्ताओं ने फिर विभिन्न प्रभावों की जांच की और पाया कि सभी राज्यों में गेहूं के उपज अंतर का सबसे बड़ा कारक बुनाई की तिथी है। सिंचाई दूसरा सबसे बड़ा कारक था।

जैन ने कहा, "गर्मी के नकारात्मक प्रभावों को कम करने की रणनीति जैसे कि पहले बुनना और गर्मी-सहनशील गेहूं का किस्मों का रोपण, इस महत्वपूर्ण कृषि क्षेत्र में पैदावार को बढ़ाने में मदद कर सकता हैं," जैन ने कहा।

यह अध्ययन, "भारत के गेहूं बेल्ट में उपज अंतर के कारणों और संभावित समाधानों की पहचान करने के लिए उपग्रह डेटा का उपयोग" सितंबर में पर्यावरण अनुसंधान पत्रों में प्रकाशित हुआ था। अध्ययन पर अन्य शोधकर्ताओं में बलविंदर सिंह, ए.के. श्रीवास्तव, आर.के. मलिक, अंतर्राष्ट्रीय मक्का और गेहूं सुधार केंद्र के ए जे मैकडॉनल्ड और स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के डी.बी. लोबेल हैं।

अधिक जानकारी:
अध्ययन: "भारत के गेहूं बेल्ट में उपज अंतर के कारणों और संभावित समाधानों की पहचान करने के लिए उपग्रह डेटा का उपयोग"
मेहा जैन