Logo

अध्ययन ने दी युवाअो में 'स्लेक्टीविज़्म’की सोच को चुनौती

english portuguese

study-challenges-slacktivism-among-young-adults-orig-20170927एन आर्बर - सामाजिक कारणों वाले वीडियो शेयर करने वाले युवा "स्लैकटिविस्ट" के इमेज के विपरीत वास्तव में खुद वालंटियर करने के लिए प्रेरित हो सकते हैं।

मिशिगन यूनिवर्सिटी के शोध ने "स्लैकटिविस्ट" की धारणा को चुनौती दी है, जो अक्सर सोशल मीडिया पर युवाअो के राजनीतिक गतिविधि का वर्णन करने के लिए किया जाता है।

""स्लैकटिविस्ट" के समर्थकों का तर्क है कि सोशल मीडिया पर आसान तरीके से राजनीति में भाग लेने से — जैसे कि याचिका पर हस्ताक्षर करना या वीडियो शेयर करना — युवाये अपने नेटवर्क को दिखाते है कि वे कितने अच्छे हैं, जिससे वे अधिक कठिन ऑफ़लाइन कार्यवाही — जैसे कि रैली में भाग लेना या गैर-लाभकारी संस्था में वालंटियर करना — नहीं करते," डेन लेन ने कहा, जो कम्यूनकैशन स्टडीज़ विभाग में डॉक्टरेट के उम्मीदवार और अध्ययन के प्रमुख लेखक है।

लेन और सह-लेखक सोन्या डल सीन ने, जो कम्यूनकैशन स्टडीज़ विभाग में सहयोगी प्रोफेसर हैं, 178 कॉलेज के छात्रों से तीन सामाजिक कारणों वाले वीडियो देखने को कहा और फिर उन्हें किसी भी एक वीडियो को सार्वजनिक रूप से पोस्ट करने के लिए कहा - अपने फेसबुक टाइमलाइन पर या फिर किसी तीसरे पक्ष के फेसबुक टाइमलाइन पर।

इसके बाद प्रतिभागियों ने जिस वीडियो को शेयर किया उस की सहायता के लिए — वालंटियर दान या संलग्न होने — उत्सुकता जताई।

जो सहभागी सामाजिक कारणों को सार्वजनिक रूप से शेयर करते है, वे गुमनाम रूप से शेयर किए गए लोगों की तुलना में वालंटियर करने के लिए अधिक इच्छुक होते थे। यह "रिवर्स स्ल्केटीविज़्म इफेक्ट" की शुरुआत हैं - लेन कहते हैं कि यह दिखाता हैं कि जो सामाजिक कारण के लिए सार्वजनिक रूप से समर्थन दिखाते है - उनका आगे काम करने की प्रतिबद्धता शेयर करने से बढता है, कम नहीं होता।

इसके अलावा, सार्वजनिक रूप से शेयर करने का प्रभाव उन लोगों के लिए सबसे मजबूत था जो सोशल मीडिया में सामान्य रूप से सामाजिक मुद्दों में शामिल नहीं होते हैं। इससे पता चलता है, लेन कहते हैं, कि सोशल मीडिया पर सामाजिक कारणों वाले वीडियो को शेयर करने वाले युवा के साथ एन्गैज्मन्ट का एक मार्ग हो सकता है, जो आम तौर पर सामाजिक कार्यों में शामिल नहीं होते हैं।

यह निष्कर्ष ऑनलाइन जर्नल सूचना, संचार और सोसायटी में प्रकाशित हुआ हैं।

अधिक जानकारी:

अध्ययन: "स्लैकटिविस्ट" के शेयरिंग के अागे: सामाजिक दृष्टि से देखने योग् prosocial मीडिया का ऑफ़लाइन मदद व्यवहार व्यवहार पर प्रभाव
दान लेन
सोन्या दल सीन