Logo

रीथिंगकिंग एक्सर्साइज़: कठोर परिश्रम की जगह वो एक्सर्साइज़ करे जो आपको खुशी दे

english espanol portuguese

एन आर्बर- कई महिलाएँ अपना वजन कम करने के लिए फिटनेस प्रोग्राम शुरू करती हैं, और जब वो सफल नही होती हैं, तो वे असफलता की वजह से व्यायाम बंद कर देती हैं।

फिर, महीनों या एक साल बाद, वे फिर से उसे दोहराती हैं अौर विफल हो जाती हैं जिससे एक दुष्चक्र शुरू हो जाता हैं, मिशेल सेगर का कहना है जो यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशिगन के खेल, स्वास्थ्य, और गतिविधि की निदेशक है।

नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट से वित्त पोषित एक नए अध्ययन में सेगर और सह-जांचकर्ताओं विश्लेषण करते है कि महिलाअो को क्या खुश और सफल महसूस कराती हैं, और इनकी एक्सर्साइज़ के बारे में अपेक्षा और विश्वास कैसे बढ़ावा देते है या कमजोर कर देते हैं।

"महिलाओं को वास्तव में क्या प्रेरित करता है, इसके बारे में एक नई समझ से दैनिक दिनचर्या में शारीरिक गतिविधि को सफलतापूर्वक शामिल किया जा सकता है," सेगर ने कहा जो यूएम इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च ऑन वुमन में रीसर्चर हैं।

यह शोध जो बीएमसी पब्लिक हेल्थ जर्नल में प्रकाशित होगा दिखाता हैं कि सक्रिय और निष्क्रिय महिलायें दोनों खुशी और सफलता महसूस करने के लिए एक जैसी चीजें रिपोर्ट करती हैं:

• खुश और सफल होने के लिये दूसरो के साथ कनेक्ट करना और उनकी सहायता करना
• अपने खाली समय के दौरान आराम करना और दबाव से मुक्त होना
• कई प्रकार के लक्ष्यों को पूरा करना (सब्ज़ी खरीदारी से करियर तक)

लेकिन अध्ययन में यह भी पाया कि निष्क्रिय महिलाओं के व्यायाम के बारे में अपेक्षाओं ने वास्तव में उनको विफल किया।

• उनका मानना ​​है कि "मान्य" अभ्यास तीव्र होना चाहिए, लेकिन वे अपने खाली समय के दौरान आराम महसूस करना चाहती हैं
• वे स्वास्थ्य के लिए या वजन कम करने के लिए व्यायाम करने का दबाव महसूस करती हैं, फिर भी अपने खाली समय के दौरान वे दबाव से मुक्त होना चाहती हैं
• सफलता लक्ष्य की प्राप्ति से होता है, लेकिन उनकी अपेक्षा कि कितना और कैसे व्यायाम करना चाहिए का मतलब है कि वे इन लक्ष्यों को हासिल नहीं कर सकती हैं

सेगर और सह-जांचकर्ता जेनिफर टैबर, हैथेर पैट्रिक, चैन थाई और अप्रैल ओह ने 22-49 वर्षिय गोरे, काले और हिस्पैनिक महिलाओं के बीच आठ फोकस समूहों का आयोजन किया, जिन्हें या तो "उच्च सक्रिय" या "कम सक्रिय" के रूप में वर्गीकृत किया गया था।

हालांकि खुशी और सफलता के बारे में निष्कर्ष दोनों समूहों के लिए सही था लेकिन कम सक्रिय महिलाओं में व्यायाम के बारे में विचार उच्च सक्रिय महिलाओं से अलग था।

उच्च सक्रिय महिलाएँ व्यायाम करने से अधिक सकारात्मक भावनाएं बनाती हैं, जब कि कम-सक्रिय महिलाएँ व्यायाम से डरती हैं।

"इस अध्ययन से महत्वपूर्ण निहितार्थ यह हैं कि महिलाओं को अपने दैलिक जीवन में व्यायाम को बेहतर प्राथमिकता देने में हम कैसे मदद कर सकते हैं," सेगर ने कहा।

हमें महिलाओं की सहायता करने के लिए उनको शारीरिक रूप से सक्रिय होने के लिए प्रेरणा बढ़ाने के लिये मदद करनी चाहिये

यह हासिल करने के लिये:
• महिलाओं को फिर से शिक्षित करना होगा कि गतिविधि अच्छा लगता है।
• एक्सर्साइज़ महत्वपूर्ण अन्य लोगों से जुड़ने के लिए किया जा सकता है।
• सभी शारीरिक गतिविधि वैध और मूल्यवान है।

 

अधिक जानकारी: