Logo

व्यवहार कुशलता प्रशिक्षण उत्पादकता को बढ़ाता है

english

व्यवहार कुशलता प्रशिक्षण उत्पादकता को बढ़ाता हैएन आर्बर — व्यवहार कुशलता वाले वर्कर जिनके पास समय और तनाव प्रबंधन, समस्या सुलझाने, संचार और अच्छे टीम्वर्क जैसे स्किल है, वे बेहतर कंपनियों में काम करते हैं और उच्च मजदूरी लाते है।

नियोक्ता सर्वेक्षण बताते है कि इस सेट के स्किल की भी तकनीकी जानकारी की तरह उँची मांग है।

अच्युत अदवारयु, मिशिगन यूनिवर्सिटी के रॉस स्कूल में व्यावसायिक अर्थशास्त्र और सार्वजनिक नीति के सहायक प्रोफेसर है। उनके शोध का टापिक — क्या भारत में महिला परिधान श्रमिकों को व्यवहार कुशलता प्रशिक्षण प्रदान करने से उनके कार्यस्थल परिणामों में सुधार हो सकता है ।

"हमने पाया कि इस उद्योग में उँचे टर्नोवर के बावजूद अधिकतर व्यवहार कुशलता वाले वर्करों को रखा जाता है," अदवारयु ने कहा। "यह कर्मचारी दूसरे वर्करों की तुलना में 12 प्रतिशत अधिक उत्पादक हैं।"

अदवारयु अौर उनके सह लेखकों ने — हार्वर्ड विश्वविद्यालय की नम्रता कला और बोस्टन कॉलेज के अनंत निशधम — भारत के सबसे बड़ी रेडीमेड परिधान निर्यातक शाही एक्सपोर्ट्स के साथ साझेदारी की जिसके वेबसाइट के अनुसार ग्राहकों में गैप इंक, वालमार्ट, जेसी पेनी जैसे कम्पनियाँ शामिल हैं।

यह फर्म भारत में अकुशल और अर्धकुशल महिला वर्करों का सबसे बड़ा निजी नियोक्ता है। जिस कार्यक्रम का अदवारयु अौर उनके सहयोगियों ने मूल्यांकन किया, उसका उद्देश्य महिला कार्यकर्ताओं को संचार, समय प्रबंधन, वित्तीय साक्षरता, कानूनी साक्षरता, समस्या सुलझाने और निर्णय लेने जैसे योग्यता में सशक्त करना था।

कार्यक्रम के प्रभावों का आकलन करने के लिए, शोधकर्ताओं ने बेंगलुरू में पांच गार्मन्ट फैक्टरी में रैन्डमाइज़्ड नियंत्रित परीक्षण किया। भाग लेने के लिए कर्मचारियों को लॉटरी द्वारा चुना गया। बचे वर्करो को नियंत्रण के रूप में रखा गया।

कार्यक्रम समाप्त होने के नौ महीने बाद प्रतिधारण परिवर्तन की वजह से व्यक्ति-दिवस में वृद्धि के साथ-साथ उत्पादकता निवेश पर 256 प्रतिशत लाभ हुआ।

"कार्यक्रम की अवधि के बाद तनख़्वाह में सिर्फ़ 0.5 प्रतिशत वृद्धि हुई जो दर्शाता है कि फर्म ने उत्पादकता से लाभ का अधिकांश भाग रख लिया," अदवारयु ने कहा।

अधिक जानकारी