Menu
A+ A A-

भारत का उदाहरण: अरविंद से उच्च गुणवत्ता वाली कुशल मोतियाबिंद सर्जरी

english

भारत के मदुरई शहर में अरविंद नेत्र अस्पताल के नर्सों के साथ हांग-गाम ली, एमडी, जिसने में मेडिकल स्कूल के दूसरे वर्ष के दौरान मोतियाबिंद सर्जरी का अध्ययन किया। (फोटो क्रेडिट: हांग-गाम ली)भारत के मदुरई शहर में अरविंद नेत्र अस्पताल के नर्सों के साथ हांग-गाम ली, एमडी, जिसने में मेडिकल स्कूल के दूसरे वर्ष के दौरान मोतियाबिंद सर्जरी का अध्ययन किया। (फोटो क्रेडिट: हांग-गाम ली)एन आर्बर — यू-एम केलॉग नेत्र केन्द्र के शोधकर्ताओं ने भारत के अरविंद आई केयर सिस्टम के उच्च गुणवत्ता से अंधापन को खत्म करने के प्रयासों पर रिपोर्ट प्रकाशित किया है।

हर साल, अरविंद अस्पतालों में करीब 4 लाख रोगियों को सेवा प्रदान की जाती है। इस अध्ययन के अनुसार, अस्पताल द्वारा मोतियाबिंद से संबंधित अंधापन और कम दृष्टि दूर करने मे $ 2.6 अरब का खर्च आएगा, लेकिन इससे $ 13.5 अरब का सामाजिक लाभ होगा।

"आर्थिक विश्लेषण का एक लक्ष्य (नीति निर्माताओं) को सूचित कर हस्तक्षेप के मूल्याकन में मदद करना है," जाशूआ स्टीन ने कहा, जो युनिवर्सिटी के नेत्र नीति सेंटर के निदेशक हैं और स्वास्थ्य नीति और इनवैशन संस्थान के सदस्य हैं।

"मेरे लिये सबसे महत्वपूर्ण लेसन अरविंद आई केयर प्रणाली की परोपकारिता है," हांग-गाम ली, एमडी, ने कहा, जिसने यू-एम मेडिकल स्कूल में अपने दूसरे वर्ष के दौरान अरविंद में मोतियाबिंद सर्जरी पर अध्ययन किया। "कुशल और लागत प्रभावी रणनीति का प्रयोग कर, अरविंद अपने बहुमत रोगियों के के लिए नि: शुल्क या रियायती देखभाल प्रदान करने में सक्षम है।अगर हम अरविंद के इनवैशन के साथ उनके मानवीय भावना को भी दुनिया के अन्य भागों में फैलाते, जहां देखभाल के लिए उपयोग अभी भी सीमित है, वो काफी लाभदायक होगा। "

अरविंद दक्षिण भारत में ग्यारह विशेषता आंख अस्पतालों का एक नेटवर्क है और 400,000 से अधिक आंख का प्रसीजर करते हैं - जिनमें से दो तिहाई मोतियाबिंद सर्जरी हैं। भारत में मोतियाबिंद अंधापन का एक प्रमुख कारण हैं, जिसका सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता हैं।

"मोतियाबिंद सर्जरी एक मरीज के पूरी तरह से आर्थिक और सामाजिक रूप से आत्मनिर्भर होने के लिए क्षमता को बदल सकता हैं और उसके व्यक्तिगत और परिवारिक जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता हैं," स्टीन ने कहा।

शोधकर्ताओं के अनुसार अरविंद आई केयर सिस्टम की उच्च गुणवत्ता
1. उनके घरेलू उत्पादन,
2. एक विशेष कार्यबल के उपयोग और
3. मानकीकृत प्रोटोकॉल (हर कमरे में एक से अधिक ऑपरेटिंग मेज, जिससे दो आपरेशन के बीच तेजी से बदलाव हो सके) और
4. नियामक बाधाओं की अनुपस्थिति हैं।

"मोतियाबिंद सर्जरी का सबसे बड़ा भाग इन्ट्राक्यूला लेंस है। अरविंद घरेलू निर्माताओं से सस्ती कीमतों पर लेंस खरीद कर इस लागत को कम रखने में सक्षम है। अन्य देश भी पश्चिमी देशों के बजाय अपने निर्माताओं से यह खरीद सकतर है, "ले ने कहा।

शोधकर्ताओं ने जुलाई 2013 के दौरान मदुरयि के अरविंद में आाये 10,954 रोगियों पर डेटा का विश्लेषण किया और पाया कि ऑपरेशन का प्रति मरीज पर कुल लागत केवल $ 120, या प्रति गुणवत्ता समायोजित जीवन वर्ष के अनुसार $195 हैं।

यह अध्ययन हेल्थ अफेर्ज़ जर्नल के अक्टूबर अंक में प्रकाशित हुआ है जिसमें भारत में स्वास्थ्य देखभाल की गुणवत्ता के बारे में कई लेख शामिल हैं।

केलॉग और अरविंद आई केयर सिस्टम ने 20 साल से अधिक क्लिनकल और स्वास्थ्य सेवाओं के अनुसंधान पर सहयोग किया है और अरविंद के लीडर्ज़ ने मिशिगन केलॉग नेत्र केन्द्र नेत्र रोग विशेषज्ञ जोशूआ स्टीन, एमडी, और हांग-गाम ली, एमडी, के विश्लेषण में भी मदद की।

लेखकों का निष्कर्ष है कि अरविंद मॉडल से सीखा मोतियाबिंद सर्जरी का वितरण भारत के दूसरे शहरों और विदेश में भी मदद कर सकते हैं।

अध्ययन के लिए अनुदान W.K.केलॉग फाउंडेशन, दृष्टिहीनता अनुसंधान, यू-एम बायोमेडिकल रिसर्च प्रोग्राम और हीड नेत्र फाउंडेशन द्वारा प्रदान किया गया।

अतिरिक्त लेखकों में यहोशू आर एहर्लिच, रंगराज वेंकटेश, अरविंद श्रीनिवासन, अजय कोल्ली, अरविंद हरिप्रिया, आर डी रवींद्रन, आर डी तुलसीराज, एलन एल रॉबिन, और डेविड डब्ल्यू हटन शामिल हैं।