Menu
A+ A A-

वैज्ञानिकों ने दुनिया के महासागरों में ज्ञात वायरस की संख्या को ट्रिपल किया

english espanol portuguese

जहाज तारा: तारा जहाज़ का पहला नाम अंटार्कटिका था, जिसके साथ एक्सप्लोरर जीन लुइस एटीन ने 1990 के दशक में अपनी ध्रुवीय यात्रायें की।  छवि क्रेडिट: Yohann.cordelle, विकिमीडिया कामनजहाज तारा: तारा जहाज़ का पहला नाम अंटार्कटिका था, जिसके साथ एक्सप्लोरर जीन लुइस एटीन ने 1990 के दशक में अपनी ध्रुवीय यात्रायें की। छवि क्रेडिट: Yohann.cordelle, विकिमीडिया कामनएन आर्बर- दुनिया के महासागरों में कई अज्ञात वैज्ञानिक रहस्य है जो एक दिन ग्लोबल वार्मिंग से ग्रह की रक्षा कर सकते हैं ।

एक अंतरराष्ट्रीय शोध टीम ने कहा हैं कि उन्होनें विश्व के सागरों में रहने वाले ज्ञात वायरस की संख्या को ट्रिपल किया और प्रकृति में उनकी भूमिका के बारे में बेहतर जानकारी प्राप्त की हैं। ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों के नेतृत्व में इस टीम में मिशिगन यूनिवर्सिटी की जीवविज्ञानी मेलिसा डूहम भी शामिल थी।

उनके निष्कर्ष को नेचर जर्नल में ऑनलाइन 21 सितम्बर को प्रकाशित किया गया। टीम के सदस्यों ने कहा कि इस काम से मनुष्यों द्वारा वातावरण में डाले गये अतिरिक्त कार्बन को कम करने अौेर पर्यावरण को बचाने में मदद मिलेगी।

वर्तमान में महासागर दुनिया का आधा कार्बन सोख लेता है लेकिन उसकी कीमत अम्लीय महासागर हैं जिससे शंख जैसे कुछ प्राणी को खतरा हो सकता है। रोगाणुओं और वायरस की समझ इन प्रबंधन के प्रयासों के लिए महत्वपूर्ण है, शोधकर्ताओं ने कहा।

यह काम जहाज तारा के अभूतपूर्व तीन साल के महासागर अभियान से सम्भव हुआ, जिसमें 200 से अधिक विशेषज्ञ शामिल थे।साथ में थे स्पेनिश के नेतृत्व वाले 2010 का Malaspina अभियान जिसने समुद्र पर वैश्विक परिवर्तन के प्रभाव का मूल्यांकन किया है और जैव विविधता का अध्ययन किया।

ओहियो स्टैट युनिवर्सिटी के में शोधकर्ताओं ने दो जहाजों पर सवार वैज्ञानिकों द्वारा एकत्र वायरल नमूने को संसाधित किया। ओहियो स्टैट के प्रमुख लेखक साइमन रॉक्स ने उन नमूनों के आनुवंशिक जानकारी का विश्लेषण करके 15,222 आनुवंशिक रूप से अलग वायरस की सूची बनाई और उन्हें फिर एक तरह के संपत्ति वाले 867 समूहों में डाला।

रॉक्स मैथ्यू सुलिवन की प्रयोगशाला में एक पोस्ट डाक्टरल शोधकर्ता है। सुलिवन अध्ययन के वरिष्ठ लेखक और ओहियो स्टैट युनिवर्सिटी में सूक्ष्म जीव विज्ञान के एसोसिएट प्रोफेसर है।

"दस साल पहले मैं कभी सपना भी नही देखा था कि हम दुनिया भर में सागर के जीवों की ऐसी एक व्यापक सूची की स्थापना कर सकते है," सुलिवन ने कहा। "दुनिया भर के वैज्ञानिक खुलासा कर रहे हैं कि कैसे रोगाणु हमारे शरीर, मिट्टी, हवा और महासागरों को प्रभावित कर रहे हैं। जैसे-जैसे हम वायरस अध्ययन करने की की क्षमता में सुधार कर रहे हैं, हम वायरस की इन माइक्रोबियल कार्यों में भूमिका देख रहे हैं।"

पुल पर काम में, वैज्ञानिक दल दर्जनों विभिन्न नमूनों से भरे ट्यूबों  के साथ। छवि क्रेडिट: यान Chavance, तारा अभियान फाउंडेशनपुल पर काम में, वैज्ञानिक दल दर्जनों विभिन्न नमूनों से भरे ट्यूबों के साथ। छवि क्रेडिट: यान Chavance, तारा अभियान फाउंडेशनयू-एम की दूहैम ने 2011 में तारा महासागर अभियान में भाग लिया और चिली से ईस्टर द्वीप तक के दक्षिण प्रशांत के वायरस के नमूने लिये।उन्होनें हजारों लीटर के समुद्री पानी से रोगाणुओं और वायरस को छानने में कई सप्ताह बिताये। इन सूक्ष्मजीवों को आनुवंशिक अध्ययन के लिए प्रयोगशाला में वापस लाया गया।

"इन निष्कर्षों से हमें सागर की वायरल विविधता नही लेकिन वैश्विक स्तर पर सूक्ष्म जैविक विविधता को समझने में मदद मिलेगी," दूहैम ने कहा, जो यू-एम के पारिस्थितिकी और विकासवादी जीवविज्ञान विभाग में सहायक शोध वैज्ञानिक हैं।

"महासागर जलवायु परिवर्तन के खिलाफ एक बड़ा बफर है। हमारा संदेह है कि लोग इस बफर का इस्तेमाल करके लाभ लेगें," उन्होंने कहा। "वे वायरस को फाइन टून करके के कार्बन को गहरे समुद्र में सिंक करने के तरीके खोज सकते है।"

अब, रॉक्स और सुलिवान लगता है कि दुनिया के समुद्री जल में वायरल स्तर पर क्या हो रहा है, यह उसका अधिक पूरा तस्वीर है।

इस काम के लिए पहले, वायरस यहाँ और वहाँ दुनिया भर में पहचान की गई है, उन्होंने कहा। यही कारण है कि पिछले सूची सबसे हाल ही में इस अध्ययन में तुलना के लिए सुलिवन लैब किया गया था पहले काम में उल्लिखित।

यू-एम एन आर्बर में आने से पहले दूहैम सुलिवन लैब में एक पोस्ट डाक्टरल शोधकर्ता थी। उन्होंने वहाँ जीनोमिक डेटासेट विकसित करने में मदद की जो नेचर जर्नल की रिपोर्ट में था।

ओहियो स्टैट युनिवर्सिटी के काम को राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन और गॉर्डन और बेट्टी मूर फाउंडेशन द्वारा सपोर्ट किया गया।

अधिक जानकारी:

अध्ययन: Ecogenomics और विश्व स्तर पर प्रचुर मात्रा में सागर वायरस का biogeochemical संभावित प्रभाव
मेलिसा दूहैम