Menu
A+ A A-

यू-एम की मदद से भारत में पहला उपभोक्ता भावना सूचकांक शुरू

english

u-m-helps-india-start-first-consumer-sentiment-index-orig-20160519एन आर्बर— भारत ने पहली बार उपभोक्ता भावना मापना शुरू किया हैं। यह भावना उपभोक्ताओं के अर्थव्यवस्था में आत्मविश्वास को उनके खर्च के माध्यम से व्यक्त करता है।

यह मासिक उपभोक्ता भावना सूचक सेन्टर फार मानटरिंग इन्डीअन ईकानमी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ने मिशिगन यूनिवर्सिटी इन्स्टिटूट फार सोशल रीसर्च के सर्वेक्षण अनुसंधान केंद्र के सहयोग से शुरू किया है।

"हम CMIE और बीएसई के साथ इस महत्वपूर्ण और अनूठे पहल पर काम करने के लिये बहुत उत्साहित हैं," बेथ-एलेन पेनल ने कहा जो सर्वेक्षण रिसर्च सेंटर के अंतरराष्ट्रीय सर्वेक्षण संचालन की निदेशक हैं। "यह सहयोग भारत के बारे में महत्वपूर्ण और सामयिक आर्थिक आंकड़े सार्वजनिक रूप से पहली बार उपलब्ध करेगा।"

उपभोक्ता सर्वेक्षण के साथ-साथ, CMIE भारत के ग्रामीण और शहरी - दोनों क्षेत्रों के बेरोजगारी के दर का भी आकलन करेगा।

परंपरागत रूप से सरकार बेरोजगारी दर का अनुमान करता है। एक निजी कंपनी द्वारा यह मूल्यांकन अधिक नहीं होता है।

"सर्वेक्षण और रोजगार दर मूल्यवान संसाधन हैं," रिचर्ड कर्टिन ने कहा जो यू-एम उपभोक्ता सर्वेक्षण के निदेशक हैं। "यह सरकार की नई नीतियों पर उपभोक्ताओं की प्रतिक्रिया का अनुमान लगाने में मदद करता है और यह देश की आर्थिक सेहत का भी संकेत देता है।"

यू-एम इन्स्टिटूट फार सोशल रीसर्च ने 1946 में दुनिया में सबसे पहले उपभोक्ता भावना सर्वेक्षण शुरू किया था। अब यह सर्वेक्षण 70 से अधिक देशों में किया जाता है। निर्माता, विक्रेता और बैंक सभी उपभोक्ता मूल्यांकन का उपयोग करते हैं - चाहे वो उत्पादन और घर के निर्माण को बढ़ाने के लिये हो यह उन्हें धीमा करने के लिए।

'भारत में इसका लाभ सेंट्रल बैंक, राज्य सरकार, व्यापार, शिक्षकों और जनता को मिलेगा जो भारतीय अर्थव्यवस्था की बेहतर समझ चाहते हैं, " CMIE प्रबंध निदेशक महेश व्यास ने कहा।

भारत में सर्वेक्षण को लॉन्च करने के लिए ISR ने CMIE के साथ अपने शोध पद्धति को बाटाँ और शोधकर्ताओं ने ने प्रक्रिया को समझने के लिये काम भारत में समय बिताया।

उपभोक्ता भावना ISR और CMIE के बीच साझेदारी का एक भाग हैं जिसमे छात्र इंटर्नशिप और भारत डेटा संग्रह का विश्लेषण भी शामिल है। अमेरिका घरेलू सर्वेक्षण, 500 परिवारों के साथ आयोजित किया जाता है, जबकि भारतीय सर्वेक्षण 150,000 से अधिक परिवारों के साथ साल में तीन बार आयोजित किया जाता है।

अभी CMIE राष्ट्रीय उपभोक्ता भावना सूचकांक और बेरोजगारी की संख्या हर महीने जारी करता हैं। लिकिन वे उम्मीद रखते हैं कि वे शीघ्र ही प्रत्येक भारतीय राज्य के लिए अनुमान जारी कर सकेगें।

"भारत में बहुत विविधता है," व्यास ने कहा। "यह अनुमान एक राज्य से दूसरे तक बहुत भिन्न हो सकता हैं।"

अधिक जानकारी

भारत में कंज्यूमर सेंटीमेंट
भारत में बेरोजगारी 
इन्स्टिटूट फार सोशल रीसर्च