Menu
A+ A A-

दिल्ली में अवैध बैटरी कारोबार से सीसा का लेवेल बहुत ऊँचा

english

पुरानी बैटरी। (शेयर छवि)एन आर्बर - दिल्ली की प्रदूषित हवा सुर्खियों में रहा है, और अक्सर दुनिया उसे बीजिंग के साथ सबसे प्रदूषित क्षेत्र के लिए तुलना करती हैं।

अब मिशिगन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं की एक टीम ने पाया है कि राजधानी में अवैध बैटरी रीसाइक्लिंग व्यापार प्रदूषित हवा को बढाने का काम कर रहा हैं। उन इलाकों में हवा में लेड या सीसा का स्तर स्वास्थ्य गाइड्लाइन्ज़ से 2-8 गुना अधिक था।

"अगर आपके मुहल्लें में यह अवैध बैटरी रीसाइक्लिंग व्यापार चल रहा हैं, तो संभावना हैं कि आप कुछ ही मील दूर रह रहे लोगों से अधिक सीसा साँस में ले रहे हैं, और प्रदूषण कम करने वाले नियामकों को खबर भी नही हैं," वरिष्ठ लेखक एंड्रयू आल्ट ने कहा, जो यू-एम पब्लिक हेल्थ्य स्कूल में पर्यावरणीय स्वास्थ्य विज्ञान के सहायक प्रोफेसर हैं।

"इसका मतलब है कि अमेरिका में पूरे वर्ष या उससे अधिक समय में लिया गया लेड आप कुछ दिनों के भीतर ले रहे है," पहले लेखक होंगरू शेन ने कहा जो पर्यावरणीय स्वास्थ्य विज्ञान में डॉक्टरेट के छात्र हैं।

हवा, पानी और अन्य स्रोतों में अत्यधिक सीसा से कई बीमारियाँ हो सकती है जैसे कि उच्च रक्तचाप, पेट की बिमारीयाँ, सभी उम्र के लोगों में तंत्रिका तंत्र की हानि, और बच्चों में मस्तिष्क संबंधी समस्यायें।

परिष्कृत सूक्ष्म उपकरण और जासूसी का उपयोग करके यू-एम पब्लिक हेल्थ स्कूल के शोधकर्ताओं ने दिल्ली के साइटों पर हवा में लेड कणों के स्रोत को पता लगाया जो बहुत ऊँचे थे और बाकी स्रोतों से मेल नहीं खाते थे।

दिल्ली की हवा में सीसा कोयला वाले बिजली संयंत्र, भट्टी, लेड वाले ईंधन निलंबित सड़क की धूल और विमानन ईंधन से उत्पन्न होता है और पहचाना जा सकता है, शोधकर्ताओं ने कहा। अवैध बैटरी रीसाइक्लिंग ऑपरेटर जो दिल्ली के 89 प्रतिशत लेड बैटरी को रीसायकल करते है, अधिकतर लकड़ी के ईंधन का उपयोग करते हैं।

क्योंकि यह अवैध हैं, वे एक जगह से दूसरे जगह बदलते रहते हैं और सीसा का हॉट स्पॉट बनाते हैं।

"हम लेड कणों की तलाश नहीं कर रहे थे, लेकिन वे हमारे विश्लेषण में सामने आये। यह दोनों पर्यावरण और लोगों के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। हमने जासूसों की तरह इसके बारे में पता लगाया कि वह कहाँ से आ रहे हैं, "शेन ने कहा।

शोधकर्ताओं के सहयोगी दल ने दिल्ली में 2008 के अगस्त से दिसंबर तक नमूने लिये और उसके बाद कंप्यूटर नियंत्रित स्कैनिंग इलेक्ट्रॉन माइक्रास्कपी के साथ एनर्जी डिस्पर्सिव एक्स-रे विश्लेषक से उसका विश्लेषण किया।

शोधकर्ताओं ने कण संग्रह के लिए 50 साइट चुने। इनमें से 25 का विश्लेषण किया जिसमें सीसा कण का घन 0.0 से 6.2 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर था (अमेरिका का स्टैंडर्ड 0.15 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर है)। चार जगहों में लेड 1.4 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर था जो "लेड इवेन्ट" के स्तर पर था।

अधिकांश अनुसंधान हवा में लेड के स्तर की जाँच करने के लिये तत्व का वजन करते है जबकि इस टीम ने बेहतर समझ हासिल करने के लिए हजारों व्यक्तिगत कणों को देखा कि उनमें किस तरह का गठन है।

"हमने स्वचालित इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप से व्यक्तिगत कणों की तस्वीरें ली। आकार, प्रकार, और रचना से हम कणों के गठन को देख सकते थे," आल्ट ने कहा।

आम तौर पर, उच्च सीसा के स्तर, सर्दियों में पाए जाते हैं, मानसून के मौसम में नहीं। तो जब शोधकर्ताओं सभी मौसमों में ऊंचा स्तर पाया, तो सबूत था कि स्रोत स्थानीय था। हवा के पैटर्न ने ऊर्जा संयंत्रों या अन्य उद्योगों के रूप को स्रोत के रूप से हटा दिया।

हालांकि भारत ने लेड संदूषण के स्रोतों को हटाने के लिए काम किया है लेकिन विकासशील देशों से इसे हटाने के लिये अमेरिका जैसे कड़े वायु गुणवत्ता प्रवर्तन नहीं है। कई शोधकर्ताओं का कहना है कि लेड का कोई सुरक्षित स्तर नही है।

अन्य लेखक: थॉमस एम पीटर्स, आयोवा विश्वविद्यालय; नरेश कुमार, मियामी विश्वविद्यालय, गैरी एस Casuccio, ट्रेसी एल लोरच और रोजर आर वेस्ट, आरजे ली समूह, इंक पेंसिल्वेनिया; और अमित कुमार, पर्यावरणीय स्वास्थ्य सोसायटी, दिल्ली।

अधिक जानकारी
आर्टिकल
आल्ट