Menu
A+ A A-

उचित व्यापार दार्जिलिंग चाय श्रमिकों के लिए अनुचित सौदा

english

एन आर्बर: बसंत में बेशकीमती दार्जिलिंग चाय की पहली फ्लश फसल तैयार हो रही हैं, लेकिन दार्जिलिंग के उचित व्यापार के चाय बागानों में काम कर रहे कार्यकर्ता अभी भी एक अच्छे सौदे का इंतजार कर रहे हैं , यूनिवर्सिटी ऑफ़ मिशिगन की सारा बेसकी कहती हैं।

You must have the Adobe Flash Player installed to view this player.

" दार्जिलिंग के चाय उद्योग निष्पक्ष व्यापार से संचालित एक पुनरुद्धार के बीच में है , " सारा बेसकी ने कहा, जो नृविज्ञान और प्राकृतिक संसाधनों और पर्यावरण में सहायक प्रोफेसर हैं। बेसकी ने हिमालय की तलहटी में बसे पूर्वोत्तर भारत के इस दूरदराज क्षेत्र में चाय श्रमिकों के जीवन को कई सालो से अध्ययन किया है।

"लेकिन विडंबना यह है कि वैश्विक ' नैतिक खपत' की उम्र में, इसका बागान के श्रमिकों पर, जो अधिकतर भारतीय नेपाली या गोरखा महिलाएं हैं, ज्यादा प्रभाव नहीं पड रहा हैं।

अमेरिका में, सबसे बेशकीमती पहली फ्लश चाय की पत्तियां - जिसे SFTGFOP या "सुपर फाइन टिपी गोल्डन फ्लाउअरी ऑरेंज पीका कहा जाता हैं "- आठ औंस $60 या अधिक पर बेचा जाता है। लेकिन इन पत्तियों को तोडने वाले श्रमिक पूरे दिन के काम के लिए सिर्फ एक या दो डॉलर कमाते हैं।

सारा बेसकी, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय प्रेस द्वारा प्रकाशित" दार्जिलिंग भेद: भारत में निष्पक्ष व्यापार चाय बागानों पर श्रम एवं न्याय " की लेखिका है।

1850 में अंग्रेजों द्वारा स्थापित दार्जिलिंग के " चाय बागान " अब भारतीयों के स्वामित्व में हैं जो उन्हें पहले की तरह ही चलाते है। श्रमिकों नियोक्ताओं द्वारा प्रदान घरों में रहते हैं और मजदूरी का आंशिक भुगतान भोजन के भत्ते और घरेलू आवश्यकताओं के रूप में दिया जाता हैं।

"निष्पक्ष व्यापार एक आक्सीमोरण है , " बेसकी ने कहा। " बागान के श्रमिक छोटे किसाने नहीं हैं। वे मजदूर हैं जो किसानों की तरह काम करने वाले जमीन पर रहते हैं।"

बेसकी निष्पक्ष व्यापार और अन्य आंदोलनों का दार्जिलिंग चाय बागानों पर प्रभाव अौर 21 वीं सदी के बाजार में भौगोलिक दृष्टि से प्रतिष्ठित और नैतिकता से स्रोत खाने पर चर्चा करती है।

बेसकी ने कहा, "यह रणनीतियों प्लैन्टैशन पर जीवन बेहतर बनाने का प्रयास करती हैं लेकिन अभी तक प्रत्येक ने केवल आंशिक रूप से बागान श्रमिकों की चिंताओं को संबोधित करते हैं।

" वैश्विक, राष्ट्रीय और क्षेत्रीय न्याय के बीच तालमेल नहीं है। बागान के श्रमिक इस बात से अवगत हैं कि उनके नाम से कॉल्स आगे जा रहे हैं पर न्याय के बाजार में , चाय बागान कहीं नहीं है। "