Menu
A+ A A-

गुरु के रूप में स्मार्टफोन: तकनीक कैसे व्यवहार को बदल सकता है

english

एन आर्बर: स्मार्टफोन को अक्सर परम डिस्ट्रैक्शन के रूप में देखा जाता हैं लेकिन एक मिशिगन विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग के प्रोफेसर उन्हें विपरीत रूप में देखते है।

क्या वे उपयोगकर्ताओं को विशेष लक्ष्य हासिल करने में, चौकस रहने में, या सजगता में मदद कर सकता है?

यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग एंड कंप्यूटर साइंस के प्रफेसर जसप्रीत सिंह के अनुसार, स्मार्टफोन्स के कारण लोग अपने काम पर या घर पर रहने के दौरान सचेत रहते हैं और इसकी मदद से अपने कुछ खास कार्य पूरे कर सकते हैं।

जसप्रीत सिंह ने एक पाठ्यक्रम " नये की कल्पना करो ! "में इंजीनियरिंग , कला , संगीत , स्वास्थ्य क्षेत्रों के छात्रों के सामने एक चुनौती रखी कि वो ऐसे मोबाइल एप डिवेलप करे, जो यूजर को सेहतमंद बने रहने में फायदेमंद साबित हो सकें। उनकी टीम ने जो एप तैयार किए, वह यूजर को तयशुदा वक्त या जगह पर मेसेज भेजते थे।

एक बयान में सिंह ने कहा कि हम एक ऐसे समाज में हैं, जहां खाना, गैजेट और ज्ञान की कमी नहीं है। कमी दरअसल, हमारी सजगता में आ गई है। आम तौर पर इंसान को दबाव में भूलने की प्रवृत्ति होती है, लेकिन स्मार्टफोन इसमें सहायता कर सकते हैं।

"और उनमें से एक अरब दुनिया भर में आज प्रयोग कर रहे हैं , " उन्होंने कहा . "वे याद दिलाते टेक्नोलॉजीज पहुंचा सकता है , या वे , निरीक्षण सिखाने , आशा या उपयोगकर्ताओं को एक नियमित आधार पर सर्वोत्तम प्रथाओं प्रदर्शन करने में मदद कर सकता है . "

सिंह की क्लास ने कई मोबाइल एप डिवेलप किये, इसमें सीनियर सिटीजंस के लिए 'बैलेंस' नाम का एक एप तैयार किया गया, जिसकी मदद से यूजर आसान तरीके से हर-रोज कसरत से जुड़े छोटे-छोटे वीडियो देख सकता है और इसी तरह महिलाओं को प्रेगनेंसी के दौरान 'वीएडिशन' नाम के एप के जरिए तमाम टिप्स मिल सकते हैं, जबकि 'जॉगल' एप के द्वारा आर्ट, पोइट्री और म्यूजिक से जुड़कर यूजर अपनी क्रिएटिविटी को बढ़ा सकता है।

और कॉलेज दादी नामक एप छात्रों के अध्ययन और सामाजिक कामों में संतुलन बनाये रखने में मदद करता हैं। यह एप स्टूडन्ट को सोने के लिए जाने, या अध्ययन के बाद ब्रेक लेने या उचित समय पर खेल छोड़ने के लिए रीमाइन्डर भेजता हैं। यह रीमाइन्डर एक घुंघराले भूरे रंग के विग में एक कॉलेज स्टूडन्ट एक फ्रेम कॉमिक्स से "नानकान्फ्रन्टैशनल" तरीके से देता हैं।

" मोबाइल एप उपयोगकर्ता के जीवन में एक स्थिर उपस्थिति है अौर सिर्फ एक ब्राउज़िंग एप्लिकेशन थे की तुलना में यह उनके फैसले में मदद कर सकता है , " डायना ससमान ने कहा, जो संगीत , रंगमंच और नृत्य का स्कूल में संगीत रचना की स्टूडन्ट हैं। " इसके अलावा, हम इसे सामाजिक नेटवर्क से कनेक्ट करना चाहते हैं ताकि यह छात्रों पर कुछ असली दबाव दे सके।"

यह टीम एप पर काम जारी रख कर जल्द ही इसे पब्लिक करेगा अौर जॉगल एप टीम भी अपने एप को विकसित कर जनता के लिए उपलब्ध बनाने की योजना कर रहे है।

सिंह क्लास से एक नया मंच की शुरुआत देखते है। " प्रौद्योगिकी , " सिंह ने कहा, " एक महान व्यवहार परिवर्तक हो सकता है . "

 

संबंधित लिंक: