Menu
A+ A A-

अच्छा घटनाओं का अभाव, बुरी घटनाओं की उपस्थिति से भी बदतर

english

अच्छा घटनाओं का अभाव, बुरी घटनाओं की उपस्थिति से भी बदतरएन आर्बर: लोग बुरी घटनाओं की कल्पना करने के बाद अपने भविष्य के बारे में खुश रहते है, यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के एक नए अध्ययन ने पाया।

लोग अपने जीवन में बुरा संभावनाओं की उपस्थिति को यह "समझा के हटा"देते हैं कि वास्तव में यह उन लोगों के साथ नहीं होगा, मिशिगन के शोधकर्ता एड ओ ब्रायन ने कहा।

"लेकिन हम अच्छी संभावनाओं के अभाव को नही समझा सकते है। हमारे भविष्य में अच्छा घटनाओं का अभाव, बुरी घटनाओं की उपस्थिति से भी बदतर लगता है," उन्होंने कहा।

ओ 'ब्रायन ने यह पता लगाने की कोशिश की कि फ्लूअन्सी - अलग-अलग घटनाओं के बारे में लोग कैसे सोचते हैं - उनके सेहत में भूमिका निभा सकता है।

उन्होंने पांच अध्ययनों का आयोजन किया जिसमें प्रतिभागियों से अतीत और संभव भविष्य में सुख के अनुभव के बारे में सवाल पूछे गये। फ्लूअन्सी ने प्रतिभागियों के अतीत की घटनाओं का प्रभाव को बढ़ा-चढ़ा कर दिखाया -- जब अतीत की घटनाओं से सकारात्मक अनुभवों उत्पन्न हुये उन्होंने कहा कि वे उन दिनों खुश थे। इसी तरह जब नकारात्मक अनुभव आसानी से उपर आये तो लोगों ने कहा कि वे अधिक दुखी थे।

लेकिन, एक दिलचस्प मोड़ में, यह प्रवृत्ति भविष्य के अनुभवों के लिए सच नहीं था।

जबकि भविष्य की सकारात्मक घटनाओं के बारे में सोच भविष्य की खुशियों की भविष्यवाणियों के साथ सहसंबद्ध था, भविष्य में नकारात्मक भावनाअों का इस कदर असर नहीं था। दूसरे शब्दों में, आसानी से नकारात्मक संभावनाओं की कल्पना करने वाले लोगों का मानना है कि वे भविष्य में दुख का बोलबाला नहीं होगा।

प्रतिभागियों को अपने करीबी दोस्तों के लिए घटनाओं और खुशी की कल्पना करने के लिए पूछा गया। अध्ययन ने पाया कि उन्होंने पूर्वानुमान किया कि नकारात्मक घटनाओं का उनके दोस्त पर महत्वपूर्ण प्रभाव होगा।

कई सकारात्मक घटनाओं को याद करने की कोशिश केवल कुछ को याद करने से अधिक कठिन था। जिन लोगों को १२ अतीत की घटनाये याद करने के लिए कहा गया, उन्होंने उस अवधि के दौरान केवल तीन अनुभवों को याद करने वाले लोगों की तुलना में खुशी को कम रेटिंग दी।

"जब आप अच्छी चीज़ों के बारे में सोचने के लिए संघर्ष करते हैं, अपना जीवन कम खुश लगने लगते है," ओ ब्रायन ने कहा। विडंबना यह है कि बिना किसी भी समस्या के केवल दो अच्छी चीजों के बारे में सोचने से भी बदतर, १० अच्छी बातों की सूची के साथ संघर्ष करना है अौर यह आप के सुख के लिए समस्या खडा कर सकता है।

जब नकारात्मक घटनाओं की बारी आती है, विपरीत सच है। इसका खुशी पर कोई फर्क नहीं पड़ा कि प्रतिभागियों को तीन या १२ नकारात्मक घटनाओं के बारे में सोचने के लिए कहा गया। अौर कई मामलों में, इन प्रतिभागियों ने उनके भविष्य की ओर ज्यादा आशावाद की सूचना दी।

निष्कर्ष बताते हैं कि, जब भविष्य में नकारात्मक घटनायें आती है, फ्लूअन्सी का कोई फर्क नहीं पड़ता है। लोगों उम्मीद करते है कि कुछ नकारात्मक घटनाओं का सामना या कई नकारात्मक घटनाओं का अनुभव असम्भव है और यह अनुभव घटित नहीं होगा।

ओ 'ब्रायन ने कहा कि इन निष्कर्षों से पता चलता हैं कि हम कैसे खुश होते है अौर इस के बारे में कैसे सोचते हैं।

"कई लोगों का विश्वास है कि अधिक मात्रा में खुशी की पैदावार से अधिक खुशी का माहौल होगा," उन्होंने कहा। "लेकिन इन निष्कर्षों का सुझाव है कि अपने जीवन के कई खुशी के पहलुओ के बारे में सोचने के लिए संघर्ष करने पर खुशी की उपज कम कर हो जाती हैं।

यह अध्ययन को राष्ट्रीय विज्ञान फाउंडेशन से एक ग्रेजुएट रिसर्च फैलोशिप द्वारा समर्थित दिया गया। यह साइकोलॉजिकल साइंस में प्रकाशित हुआ जो साइकोलॉजिकल साइंस एसोसिएशन की पत्रिका हैं।