Menu
A+ A A-

साझा करें और बांटे? बच्चों समर्थन करते हैं, लेकिन अंत में करते हैं जमाखोरी

english

चार साल और दो ​​वर्षीय लड़के पूर्वस्कूली पर रंगीन आटा के साथ खेल रहा है. (शेयर छवि)एन आर्बर: ३ साल का बच्चा जानता हैं कि उसे दूसरों के साथ साझा करना चाहिए, लेकिन यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के एक नए अध्ययन के अनुसार वह ७ या ८ साल की उम्र तक यह पालन नहीं कर पाता हैं।

"वहां पर्याप्त सबूत है कि बच्चें कम उम्र में निष्पक्षता के बारे में जानते हैं, फिर भी वो अक्सर संसाधनों को गलत तरीके से आवंटित करते हैं जब उनको इससे लाभ होता हैं," क्रेग स्मिथ ने कहा, जो यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन मनोविज्ञान विभाग में पोस्टडाक्टरल शोधकर्ता और अध्ययन के प्रमुख लेखक हैं।

स्मिथ और उनके सहयोगी - बोस्टन विश्वविद्यालय के पीटर ब्लेक और हार्वर्ड विश्वविद्यालय के पॉल हैरिस - बच्चों के निर्णय और उनके व्यवहार के बीच के अंतर के बारे में अधिक जानना चाहते थे। अध्ययन से बच्चों की इच्छा शक्ति अौर वास्तविकता में निर्णय का सामना करने के बारे में भी पता चला।

अध्ययन में ३-८ उम्र के १०२ बच्चें शामिल थे। प्रत्येक को चार स्टिकर दिया गया। उनके माता पिता के सामने, बच्चों से पूछा गया कि वो कितने स्टिकर दूसरे बच्चों के साथ बांटेगे। उनकी सोच यह थी कि आपस में बाँटना सही हैं जब दोनों पार्टियों को समान रूप से हिस्सा मिले, शोधकर्ताओं ने कहा।

"हर उम्र के बच्चों का फैसला यही था कि बराबर का साझा खुद के लिये और दूसरों को लिये भी लागू होना चाहिये," स्मिथ ने कहा।

बहरहाल, यहां आयु समूहों की समानता समाप्त हो गयी। छोटे बच्चें विभाजन की पेशकश पर अपने स्टिकर जमा कर बैठ गये। पर ७-८ उम्र के बच्चों ने समान रूप से अपने खजाने का हिस्सा किया।

शायद छोटे बच्चों समान रूप से बाँटने में विफल हैं क्योंकि वो सोचते है कि दूसरें भी बटोर कर बैठेंगे, हालांकि यह सही प्रतीत नहीं होता है, शोधकर्ताओं ने कहा।

"वास्तव में, उनकी उम्मीद थी कि अन्य बच्चें इस स्थिति में के कम से कम आधे स्टिकर बांटेगे," स्मिथ ने कहा।

शोधकर्ताओं ने यह भी कहा है कि छोटे बच्चों में निष्पक्षता के बारे में आत्म - नियंत्रण सीमित हो सकता है जब उंहे खुद के लिए लेने के आवेग अौर बांटने के बीच संघर्ष करना पडता हैं। हालांकि, जब उनसे पूछा गया, हैरत की बात है इन छोटे बच्चों ने सही ढंग से बताया कि स्टिकर का कम से कम आधा हिस्सा होना चाहिये।

"वे इच्छा शक्ति की विफलता से प्रभावित नहीं है जब उंहे वास्तविक निर्णय का सामना करना पडा," स्मिथ ने कहा। सबसे कम उम्र के बच्चों को भी पता था कि वे आदर्श हिस्से से कम भाग करेंगे।"

शोधकर्ताओं ने यह भी कहा कि साझा करने के क्षण में, बड़े बच्चों ने बराबर बांटने के आदर्श पर अधिक वजन दिया।

"बड़े बच्चों ने निष्पक्षता और करुणा के विचारों पर ध्यान केंद्रित किया" स्मिथ ने कहा। "लेकिन जब छोटे बच्चों में हिस्सा करने का मौका आया, तो अक्सर खुद के लिए सारे स्टिकर लेने की इच्छा पर ध्यान केंद्रित हो गया।"

इस अध्ययन और इस तरह के दूसरे अध्ययनों से यह पता लगता है कि ज्यादातर बच्चों को उम्र के साथ अधिक उदार हो जाते हैं, तो माता - पिता और शिक्षकों को चिंता करने का कोई कारण नहीं है।