Logo

जीवन में उद्देश्य बुजुर्गों में स्ट्रोक के खतरे को कम कर सकता है

english espanol portugues

एक वृद्ध अमेरिकी जोड़ा (स्टॉक छवि)एन आर्बर: अमेरिकी बुजुर्गों में जीवन में उद्देश्य स्ट्रोक के खतरे को कम कर सकता है, यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के एक नए अध्ययन ने पाया।

स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियां सामाजिक, वित्तीय और व्यक्तिगत बोझ हो सकती है। इसलिए स्ट्रोक और मनोवैज्ञानिक कारकों के बीच लिंक का अध्ययन कर रोकथाम और उपचार के प्रयासों की पहचान की जा सकती है।

यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के शोधकर्ताओं ने स्वास्थ्य और सेवानिवृत्ति अध्ययन के डेटा का उपयोग किया जो ५० साल के अधिक उम्र के अमेरिकी वयस्कों का राष्ट्रीय सर्वेक्षण करता हैं। अध्ययन में लगभग ६८०० वृद्धों का, जो अध्ययन से पहले स्ट्रोक मुक्त थे, जांच किया गया।

चार साल की अवधि के भीतर स्ट्रोक की बाधाओं का आकलन करने के लिए शोधकर्ताओं ने २००६ में एकत्र किए गए मनोवैज्ञानिक और अन्य आंकड़ों का इस्तेमाल किया। उसके साथ २००६-१० के दौरान स्ट्रोक की घटनाओं के साथ एग्जिट इण्टरव्यू का प्रयोग किया गया।

कुछ कारक जिनका विश्लेषण किया गया वो थे - लिंग, जाति / जातीयता, शिक्षा के स्तर, स्वास्थ्य व्यवहार (धूम्रपान, व्यायाम, शराब का उपयोग), जैविक कारक (उच्च रक्तचाप, मधुमेह, रक्तचाप, बीएमआई), नकारात्मक मनोवैज्ञानिक कारक (अवनमन, चिंता, शत्रुता) और सकारात्मक मनोवैज्ञानिक विश्लेषण कारक (आशावाद, सकारात्मक भावनायें, सामाजिक भागीदारी)।

प्रतिभागियों ने आधा दर्जन सवालों में अपनी प्रतिक्रियाओं का मूल्यांकन किया। कुछ सवाल थे - "मैं भविष्य के लिए योजना बनाने और उन्हें वास्तव करने के लिए काम कर करता हूँ," "मेरी दैनिक गतिविधियों अक्सर मुझे तुच्छ और महत्वहीन लगती है," और "मैं अाज में जीता हूँ और भविष्य के बारे में नहीं सोचता। "

"कई जोखिम कारकों का, जिन्हे स्ट्रोक के साथ जोड़ा गया है, समायोजन करने के बाद भी उद्देश्य का प्रभाव सभी मॉडलों में महत्वपूर्ण रहा है। इसका अर्थ है उद्देश्य स्ट्रोक के खिलाफ एक सुरक्षात्मक प्रभाव दिखाता है," एरिक किम ने कहा, जो अध्ययन के प्रमुख लेखक और यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन नैदानिक मनोविज्ञान विभाग में डॉक्टरेट के छात्र है।

अध्ययन के अन्य लेखकों में ग्रैजुएट छात्र जेनिफर सन और मनोविज्ञान प्रोफेसर नेनसूक पार्क शामिल हैं। निष्कर्ष मनोदैहिक रिसर्च जर्नल के वर्तमान ऑनलाइन अंक में प्रकाशित हैं।